लॉकडाऊन का विद्यार्थीगण पर प्रभाव

लॉकडाऊन का विद्यार्थी जीवन पर प्रभाव


पुरी दुनिया जहाँ कोरोना वायरस के कारण जगह-जगह लॉकडाऊन की वजह से परेशान व बेहाल है वहीं हमारे विद्यार्थीगण जिन्होंने अपने मन में तरह-तरह के सपने संजोए बैठे है वे इस लॉकडाऊन का खत्म होने के इन्तज़ार कर रहे है।

इस बिमारी ने हमें एक ऐसे मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है जहाँ हर पल हम अपनी जिंदगी की बारें में सोच-सोच कर परेशान है। इस बिमारी ने एक शिक्षा पर ही नही बल्कि दुनिया की तमाम सेक्टरो को प्रभावित किया है। हालांकि आज हम शिक्षा पर बात करेंगे।

एक विद्यार्थी का जीवन ही अपने माँ बाप के सपने को साकार करना होता है। जैसी ही हम बच्चे से जवान की अवस्था में पहुँचते है हमारी जिम्मेदारीयाँ भी बढ़ने लगती है।

जहाँ हर विद्यार्थी का एक सपना होता है अपने जीवन के प्रति कुछ कर गुज़रने का वो आज इस लॉकडाऊन के कारण टूटता दिख रहा है।


दोस्तों आज इस जिंदगी की जद्दो-जहद में हर तरफ तरह-तरह की समस्या उत्पन्न हो रही है। जहाँ हम नौकरी(Private sector) करते थे वो सब खत्म होता दिख रहा है। क्युंकि अब हर कम्पनी एक नए स्तर से अपना व्यवसाय शुरू करना चाहती है। लोगों में अब एक डर बना हुआ है इस कहर के प्रति। वे अपने परिवार के खातिर तरह-तरह की समस्याओं का सामना कर अपने घर को लौट रहे है।

शायद ये लोग अब डर की वजह से अपने परिवार से अलग नही रहना चाहते। तो इस हालात में ये अपना भरण पोषण कैसे करेंगे।

इन सभी हालात को देखते हुए हम विद्यार्थियों को अपने जीवन के प्रति गहरी चिन्तन करना चाहिए। और एक लक्ष्य निर्धारित कर दिलों जान से पढ़ाई के प्रति मेहनत करना चाहिए और एक अच्छी से सरकारी नौकरी हासिल करें। ताकि हमें कहीं दुसरे जगह काम करने की जरूरत ना पड़े।

आज भारत में पुरी दुनिया से ज्यादा युवा तबके के लोग है जो बेरोजगारी की समस्या से परेशान व बेहाल है। इन्हें ना तो कोई ढ़ंग का जॉब मिल रहा है ना सरकार इनके बारें में कुछ सोच रही है।

जहाँ हर साल केंद्र के द्वारा कुछ सीमित नौकरिया पर Vacancy निकलता है वहीं राज्य में Vacancy की हालत बहुत ही खराब स्थिति में है।

राज्यों में अगर कोई सरकारी नौकरी के लिए परीक्षा स्थापित की जा रही है तो परीक्षा होने के बाद इन्हें रद्द कर दिया जा रहा है जो ये विद्यार्थी जीवन को परेशान कर रही है जिससे इनका मनोबल भी टुटता दिख रहा है।

सरकार भी इन विद्यार्थियों के जीवन के साथ खिलवाड़ कर रही है इन्हें तो धर्म की राजनीति करने से फुर्सत कहाँ है।

एक विद्यार्थी हो या युवा तबके के लोग ये अपने देश के मजबूती के लिए रीढ़ की काम करते है। लेकिन फिर भी सरकार शिक्षा सेक्टर में नाकाम रही है। इस पर ध्यान ही नही देती है।

खैर हम विद्यार्थियों को अपने लक्ष्य के प्रति सजग रहना है और जी जान से मेहनत कर अपने लक्ष्य को हासिल करना है चाहे लॉकडाऊन में घर पे ही रहना हो या कोई और मुसीबतों का सामना करना पड़े।

आज तो सोशल मिडिया के माध्यम से ऑनलाइन क्लासे चलाई जा रही है ताकि हमें किसी भी प्रकार के परेशानी का सामना ना करना पड़े पढ़ाई के प्रति। देश लेवल के एक से एक शिक्षक हमें गाईड लाईन दे रहे है तो ऐसे में हमें अपने सपनों को साकार करने के लिए मेहनत करना है अपने पथ से भटकना नही है चाहे जो भी मुसीबत आये उससे डट के मुकाबला करना है। और अपने पढ़ाई के प्रति कोई बहाना नही बनाना है।

हम विद्यार्थियों को अपने मजबूत इरादे के लिए प्रतिज्ञा करनी है और पढ़ाई के प्रति सजग रहना है और अपने पढ़ाई पर कोरोना हो या कोई आपदा उसका प्रभाव नही पड़ने देना है।।।


                        (Written by:- Meraj Hashmi)
 

Post a comment

0 Comments