हमें भारत के नागरिक के रूप में स्वास्थ्य कर्मचारी से कैसे व्यवहार करना चाहिये।

 स्वास्थ्य कर्मचारी से कैसे व्यव्हार करना चाहिये?


चीनी वायरस यानि कोरोना वायरस जिसके प्रकोप से पुरी दुनिया त्राहि-त्राहि कर रही है। हालात ऐसा हो गया है कि अगर इस दुनिया में डॉक्टर या स्वास्थ्य कर्मी न होते तो शायद ही इस धरती पे कोई बचेगा। इस घड़ी में अगर कोई सहारा बचा है तो सिर्फ और सिर्फ स्वास्थ्य कर्मी ही है।

 ऐसे में उनलोगो से हमें कैसे व्यवहार करनी चाहिए ये हम भारतीयों से भला अच्छा कौन जान सकता है जिसे बचपन से ही रग रग में शिष्टाचार का पाठ पढ़ाया जाता है। लेकिन आज हम पश्चिमी सभ्यता से इतना ग्रसीत हो गए है कि जो हमारी जीवन की रक्षा कर रहा है उसी से हमलोग बदसलूकी कर रहे हैं। शायद हमारा जमीर मर गया है। डाॅक्टर जिसे हम दुसरे भगवान का दर्जा देेते है। स्वास्थ्य से जुड़ा कोई भी परेशानी हो वो एक डाॅक्टर के माध्यम से ही ठीक होता है। कुछ दिन पहले मैने कुछ कोरोना मरीज को डॉक्टरों से बदतमीजी करते सुना(मिडिया के माध्यम से)। कुछ डॉक्टरों पे पत्थर भी फेंके गए। स्वास्थ्य कर्मी को कहीं कहीं गलत टिप्पणियों का सामना भी करना पड़ा।क्या ये सब करने से हम जल्दी ठीक हो जायेंगे। नहीं कभी नहीं। हमारे देश में जहाँ प्रधानमंत्रीजी के तरफ से डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मी के मनोबल को बढ़ाने के लिए हर घर ताली और थाली बजाए गए। वहीं कुछ लोगों ने इसे राजनीतिक ऐजेंडा बता के इसका मजाक उड़ाया। खैर हमारे देश में तो हर बात पे राजनीति होती है।


आज देश में लगे लॉकडाऊन के बावजूद भी स्वास्थ्य कर्मी और डॉक्टर हमारे लिए एक पैर पे खड़े है। लेकिन कुछ लोगों को लगता है कि ये तो उनका फ़र्ज है ये नहीं करेंगे तो कौन करेगा। नहीं मेरे भाईयों मैं मानता हूँ कि डॉक्टर तो इसी दिन के लिए इतना मेहनत करते है। लेकिन हमारा ये फ़र्ज है की हमें उनका हौसला अफ़जाई करना चाहिए। इनके हिम्मत को बढ़ाना चाहिए ताकि ये लोग अच्छे से किसी भी मरीज का इलाज करें। और एक बात डॉक्टर का कोई धर्म नहीं होता। उनके लिए सभी लोग बराबर है चाहे वह गरीब हो या अमीर। इन गलतफहमियों से हमें दूर रहना चाहिये की गरीबलोगों का इलाज नहीं होगा और अमीरलोगों का होगा।

आज पूरे दुनिया के स्वास्थ्य कर्मी अपनी जान जोखिम में डालकर दिन रात हमारी सेवा के लिए तत्पर खड़े है। साफ-सफ़ाई से लेकर हमारी देख भाल तक ये लोग कर रहें है। ऐसे मेें हमें इनका नमन करना चाहिये और आदर करना चाहिये। हमसभी लोग भली भांति जानते है की हर डिपार्टमेंट में कुछ लोग होते है बुरे मगर इन लोगो की वजह से हम सबको एक तरह नही देख सकते। हमें इनका शुक्रिया अदा करना चाहिये जो इस घड़ी में हमारे साथ खड़े है।

आज इस घड़ी में अगर कोई भी व्यक्ति को कोरोना इन्फेक्शन हो जा रहा है तो उसके घर वाले भी उससे दूर हो जा रहे हैं ऐसे हालात में ये स्वास्थ्य कर्मी ही हमारी मदद कर रहे है। और कोई नहीं। इस घड़ी में हमें डॉक्टर की हर सलाह को माननी चाहिये। उनके बताये हुए हर नियम का पालन करना चाहिए। ऐसे करके भी हम उनका शुक्रिया अदा कर सकते है। और भारत का एक अच्छा नागरिक होने का प्रमाण दे सकते है।


आज जैसे हमारे देश के सैनिक जो हमारी रक्षा के लिए सीमा पे हमेशा तैयार रहते है चाहे जैसी भी स्थिति हो। वैसे ही आज ये स्वास्थ्यकर्मी हमारी और हमारी देश की रक्षा कर रहे है। शायद हमें ये पता नहीं की येलोग कितनी कठिनाईयाँ का सामना कर रहे है। ये लोग कितने दिनो से अपने घर को नहीं गए,ड्यूटी पथ पे 24 hours PPE(Personal protective equipment) पहने रहते है जिससे इनके चेहरे पे छाले पड़ जाते है। PPE पहने के कारण ये ठीक से खाना भी नहीं खा पाते। ऐसे में इनसे अगर कोई बदसलूकि करता है तो ये हमारे व्यक्तितव को ठेस पहुँचाने के बराबर है।

इसलिये हमारा फ़र्ज है कि हमें अपने स्वास्थ्यकर्मीयों की हिफाज़त करना है और उनके साथ खड़े होकर उनका हौसला अफ़जाई करना है। ऐसा करके भी हम अपने स्वास्थ्यकर्मियों के प्रति भारत के एक अच्छे नागरिक होने का प्रमाण दे सकते है।
                           (Written by:- Meraj Hashmi)

Post a comment

2 Comments

  1. सुपर..लाजवाब..
    दिल को सुकून मिला पढ़ कर..
    स्वास्थ्य कर्मी अब भारत के निर्माण कर्मी है।
    सदैव आदर और सम्मान के अधिकारी भी है..

    लेकिन जो नीच, ज़ाहिल और विकृत मानसिकता वाले लोग..जो हमले कर दे रहे है
    उसका क्या इलाज़ होना चाहिए !
    भारत सरकार और सभी राज्यो के सरकार ने ऐसे उदंड आक्रांता लोगो से ही निपटने के लिए
    रासुका के तहत केश चार्ज करने की अनुमति दे दी है।
    रही बात देश के बाकी लोगो का तो वे सब जानते हैं कि स्वास्थ्य कर्मी ही अब भाग्य कर्मी भी है जब तक आप ज़िंदा है...
    इसीलिए उन्हें प्यार और सम्मान दीजिये...
    .........क्योंकि वे इसके हकदार है।


    काफी अच्छा लगा स्वास्थ्य कर्मी पे इतना शानदार लेख पढ़ कर...।
    शाबाश दोस्त

    ReplyDelete
  2. सही बोल भाई अगर आज के टाइम में जितना तारीफ करे काम है डॉक्टर का जो अपने जान कों दाओ पर लगा कर हमारी रक्छा करते है

    ReplyDelete